I AM INDIAN

I LOVE MY NATION .DO YOU ?

सिले लबों के टाँके सब टूटने लगे

 

सिले लबों के टाँके सब टूटने लगे ,

 मर्द के गुरूरी कोठे सब टूटने लगे !

 

**************************************

 ज़ुल्म के जिन पिजरों में कैदी थे ख्वाब ,

 जंग खाकर पिंजरे वे सब टूटने लगे !

 

************************************

 सहकर सितम खिलाई मैंने वफ़ा की रोटी ,

 बर्दाश्त के अब चूल्हे सब टूटने लगे !

 

************************************

 कैदखाना था मेरा चौखट व् दीवारें ,

 बढ़ते मेरे वजूद से सब टूटने लगे !

 

************************************

 ‘नूतन’ यकीन कर बदली मेरी सूरत ,

 मर्दाना डर के आईने सब टूटने लगे !

 

 शिखा कौशिक ‘नूतन’

 

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Information

This entry was posted on September 21, 2013 by and tagged .
%d bloggers like this: